Bahubali: My Favorite Bollywood Film

[image: Image result for bahubali]

अमरेंद्र बाहुबली यानि के मैं, माहेश्मती की असंख्य प्रजा, धन, मान और प्राण
की रक्षा करूंगा। और इसके लिए अगर अपने प्राणों की आहूति भी देनी पड़े तो पीछे
नहीं हटूंगा। राजमाता शिवगामी को साक्षी मानकर मैं यह शपथ लेता हूं।

एक राजा का धर्म सिर्फ शत्रु को मारना ही नहीं होता प्रजाको बचाना भी होता है |

औरत पर हाथ डालने वाले की उँगलियाँ नहीं काटते, काटते हैं तो गला

सिंघासन के लिये अपने वचन तोड़ दूँ तो आपकी परवरिश का अपमान होगा माँ

देवसेना को किसी ने हाथ लगाया तो समझो बाहुबली की तलवार को हाथ लगाया

जो प्राण देता है वो भगवान है जो प्राण की रक्षा करता है वो वैद्य और प्राण
बचाने वाला क्षत्रिय

जब तक तुम मेरे साथ हो मुझे मारने वाला पैदा नहीं हुआ मामा

यह पक्तियाँ बाहुबली से है | बाहुबली मेरी प्रिय काल्पनिक कहानी है | बाहुबली
मेरी प्रिय काल्पनिक कहानी है क्योंकि वह मेरी पहली हिंदुस्तानी फ़िल्म
है जो मैने
हैदराबाद में देखी है| मैने वो फ़िल्म मेरे परिवार के साथ देखी है | मुझे याहा
कहानी पसन्द है क्योंकी वह बहुत जुनून और मार धाड वाली फ़िल्म है | यह बहुत
सुन्दर थी |

There are no comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *